Sunday, July 21, 2024
Blog

हॉस्पिटल को बदनाम करने एवं खुद को बचाने के लिए मनगढ़त और बेबुनियाद आरोप लगा रहे है मो०नौशाद और शाहिद आलम

प्रेसवार्ता आज दिनाँक 06/07/2024 को अन्जुमन हॉस्पिटल परिसर में प्रेसवार्ता में अन्जुमन हॉस्पिटल के अध्यक्ष ने नौशाद आलम के उस आरोप का जवाब देते हुए कहा कि जनता के मुद्दे पर अपने अन्जुमन के पूरे कार्यकाल में प्रेसवार्ता नही किया और एक फर्जीवाड़ा करने वाले(शाहिद आलम) को निर्दोष बताने के लिए प्रेसवार्ता कर रहे है उपाध्यक्ष नौशाद आलम को इस मामले में किसलिए इतना उग्र है उसको लोगो को बताने की जरूरत है अन्जुमन हॉस्पिटल में फर्जी सर्टीफिकेट बनाने वाला बर्खास्त हुए कंप्यूटर ऑपरेटर शाहिद आलम का मामा है उसके ही पैरवी से शाहिद आलम को अन्जुमन हॉस्पिटल में अस्थाई रूप से रखा गया था, उसकी फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद शाहिद आलम को 3 दिनों के लिए निलंबित कर कारण बताओ नोटिस देते हुए जवाब मांगा गया, परंतु शाहिद आलम ने नौशाद आलम के कहने पर निलंबन के दूसरे दिन ही अस्पताल आकर अपने किये गए अनैतिक कृत्य की साक्ष्य को कंप्यूटर से मिटाने के लिये आया तो उसे मैंने पकड़ा और हॉस्पिटल से हटा दिया उसके बाद शाहिद आलम ने अपने किये गए कृत्य पर शर्मिंदा होते हुए माफीनामा पत्र लिखा और ऐसी गलती दुबारा न करने की दुहाई देते हुए अपने को हॉस्पिटल में फिर से बहाल करने की मांग रखी,जब उसकी ये मांग हमलोगों ने नही मानी तो माफीनामा देने के 15/20 दिनों के बाद अस्पताल प्रबंधन समिति सदस्य शफीकुर्रहमान, (शफीक)और सन्नी पर फर्जीवाड़े में शामिल रहने का झूठा आरोप लगा कर हॉस्पिटल और प्रबंधन समिति को कटघरे में खड़ा करने का असफल प्रयास करने लगा इस अनैतिक कार्य मे शाहिद के मामा और अन्जुमन इस्लामिया के उपाध्यक्ष नौशाद आलम का उसको पूरा समर्थन मिला जिससे उसे बल मिला और जिसका प्रमाण पिछले दिनों नौशाद आलम और शाहिद ने प्रेसवार्ता में दिखा दिया


गौर करने वाली बात यह है कि अन्जुमन हॉस्पिटल में इससे पूर्व किसी भी कंप्यूटर ऑपरेटर पर ऐसा फर्जी सर्टीफिकेट बनाने का आरोप कियूँ नही लगी ऐसा इसलिए है क्योंकि शाहिद को ऐसा करने के लिए सुनियोजित तरीके से नौशाद आलम ने हॉस्पिटल में भेजा था क्योंकि उसे हॉस्पिटल में सेक्रेटरी बनना था उसके जगह चुनाव जीत कर कोई और सेक्रेटरी बन गया इसका उसको मलाल था इसलिए उसने पूर्वग्राह से ग्रसित होकर हॉस्पिटल को बदनाम करने के लिए यह साजिश रची।
आज के प्रेसवार्ता में मुख्य रूप से अन्जुमन हॉस्पिटल के अध्यक्ष मोख्तार अहमद,उपाध्यक्ष मो०जाहिद, हॉस्पिटल सुपरिटेंडेंट मुकीम आलम,सह-सचिव नदीम इक़बाल,कार्यकारिणी सदस्य शफीकुर्रहमान,मो०सुफियान,मो०खालिक(नन्हू)आदि उपस्थित थे।

भवदीय
मोख्तार अहमद
अन्जुमन हॉस्पिटल,राँची

प्रकाशनार्थ

*हॉस्पिटल को बदनाम करने एवं खुद को बचाने के लिए मनगढ़त और बेबुनियाद आरोप लगा रहे है मो०नौशाद और शाहिद आलम

प्रेसवार्ता आज दिनाँक 06/07/2024 को अन्जुमन हॉस्पिटल परिसर में प्रेसवार्ता में अन्जुमन हॉस्पिटल के अध्यक्ष ने नौशाद आलम के उस आरोप का जवाब देते हुए कहा कि जनता के मुद्दे पर अपने अन्जुमन के पूरे कार्यकाल में प्रेसवार्ता नही किया और एक फर्जीवाड़ा करने वाले(शाहिद आलम) को निर्दोष बताने के लिए प्रेसवार्ता कर रहे है उपाध्यक्ष नौशाद आलम को इस मामले में किसलिए इतना उग्र है उसको लोगो को बताने की जरूरत है अन्जुमन हॉस्पिटल में फर्जी सर्टीफिकेट बनाने वाला बर्खास्त हुए कंप्यूटर ऑपरेटर शाहिद आलम का मामा है उसके ही पैरवी से शाहिद आलम को अन्जुमन हॉस्पिटल में अस्थाई रूप से रखा गया था, उसकी फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद शाहिद आलम को 3 दिनों के लिए निलंबित कर कारण बताओ नोटिस देते हुए जवाब मांगा गया, परंतु शाहिद आलम ने नौशाद आलम के कहने पर निलंबन के दूसरे दिन ही अस्पताल आकर अपने किये गए अनैतिक कृत्य की साक्ष्य को कंप्यूटर से मिटाने के लिये आया तो उसे मैंने पकड़ा और हॉस्पिटल से हटा दिया उसके बाद शाहिद आलम ने अपने किये गए कृत्य पर शर्मिंदा होते हुए माफीनामा पत्र लिखा और ऐसी गलती दुबारा न करने की दुहाई देते हुए अपने को हॉस्पिटल में फिर से बहाल करने की मांग रखी,जब उसकी ये मांग हमलोगों ने नही मानी तो माफीनामा देने के 15/20 दिनों के बाद अस्पताल प्रबंधन समिति सदस्य शफीकुर्रहमान, (शफीक)और सन्नी पर फर्जीवाड़े में शामिल रहने का झूठा आरोप लगा कर हॉस्पिटल और प्रबंधन समिति को कटघरे में खड़ा करने का असफल प्रयास करने लगा इस अनैतिक कार्य मे शाहिद के मामा और अन्जुमन इस्लामिया के उपाध्यक्ष नौशाद आलम का उसको पूरा समर्थन मिला जिससे उसे बल मिला और जिसका प्रमाण पिछले दिनों नौशाद आलम और शाहिद ने प्रेसवार्ता में दिखा दिया
गौर करने वाली बात यह है कि अन्जुमन हॉस्पिटल में इससे पूर्व किसी भी कंप्यूटर ऑपरेटर पर ऐसा फर्जी सर्टीफिकेट बनाने का आरोप कियूँ नही लगी ऐसा इसलिए है क्योंकि शाहिद को ऐसा करने के लिए सुनियोजित तरीके से नौशाद आलम ने हॉस्पिटल में भेजा था क्योंकि उसे हॉस्पिटल में सेक्रेटरी बनना था उसके जगह चुनाव जीत कर कोई और सेक्रेटरी बन गया इसका उसको मलाल था इसलिए उसने पूर्वग्राह से ग्रसित होकर हॉस्पिटल को बदनाम करने के लिए यह साजिश रची।
आज के प्रेसवार्ता में मुख्य रूप से अन्जुमन हॉस्पिटल के अध्यक्ष मोख्तार अहमद,उपाध्यक्ष मो०जाहिद, हॉस्पिटल सुपरिटेंडेंट मुकीम आलम,सह-सचिव नदीम इक़बाल,कार्यकारिणी सदस्य शफीकुर्रहमान,मो०सुफियान,मो०खालिक(नन्हू)आदि उपस्थित थे।

भवदीय
मोख्तार अहमद
अन्जुमन हॉस्पिटल,राँची

Leave a Response