Saturday, April 20, 2024
Ranchi News

रमजान में रोजा रखना सेहत के लिए भी फायदेमंद: डॉक्टर शाहबाज आलम

रांची: होपवेल हॉस्पिटल के निदेशक झारखंड के टॉप जीआई सर्जन डॉक्टर शाहबाज आलम ने रोजा से संबधित पूछे गए सवाल पर कहा कि यह महीना अल्लाह का महीना है। यह मुबारक महीना में हर नेकी का सवाब कई गुना बढ़ जाता है। जहां दीनी फायदा हैं वहां स्वास्थ्य फायदा भी है। रोजा रखने से बॉडी में कई बदलाव आता है। यहीं बदलाव ठीक करता है। रोजा रखने से वजन भी तेजी से कम होता है। आजकल खराब जीवनशैली के चलते ज्यादातर लोग मोटापे की समस्या से परेशान हैं। ऐसे में रोजा रखकर वजन भी कम किया जा सकता है। रोजे में क्योंकि आपका पेट लगभग 12-15 घंटे खाली रहता है तो इससे कैलोरी इन्टेक भी कम होता है। हमारे डाइजेस्टिव सिस्टम को आराम करने का मौका मिलता है,मेटाबॉलिज्म को बढ़ावा मिलता है। इससे वजन कम करने में मदद मिलती है। रोजा रखने से हमारी बॉडी डिटॉक्स होती है। इसके पीछे कारण ये है कि रोजे के वक्त हमारे पाचन तंत्र को आराम करने का पूरा मौका मिलता है। पाचन तंत्र को जितना काम आम दिनों में करना पड़ता है, रोजे के दौरान पाचन तंत्र को उतनी मेहनत नहीं करनी पड़ती है। इसी वजह से शरीर डिटॉक्स हो पाता है और टॉक्सिन्स शरीर से बाहर निकल पाते हैं। रोजे रखने का मतलब सिर्फ भूखा रहना ही नहीं होता बल्कि इस दौरान नफ्स (इन्द्रियों) पर नियंत्रण रखने की सलाह भी दी जाती है। ऐसे में अगर किसी को कोई ऐसी लत है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है तो रमजान के महीने में वो आसानी से छूट सकती है।

Leave a Response