Ranchi Jharkhand

7232 उर्दू शिक्षक पद सृजन का स्वागत, 3712 उर्दू सहायक शिक्षक के पदों का प्रत्यर्पित दुर्भाग्यपूर्ण : अमीन

राँची, 22 जनवरी 2024,
झारखंड राज्य उर्दू शिक्षक संघ के केंद्रीय महासचिव अमीन अहमद ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के द्वारा 7232 उर्दू शिक्षक के सहायक आचार्य पदों का सृजन किया जाना एक स्वागत योग्य कदम है, जिससे राज्य में उर्दू शिक्षकों के रिक्त पदों पर नियुक्ति का रास्ता प्रशस्त होगा। किन्तु 3712 रिक्त उर्दू सहायक शिक्षक के पदों का सहायक आचार्य के पद में प्रत्यर्पित किया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है, क्योंकि 3712 उर्दू सहायक शिक्षक, गैर योजना मद का पद पूर्व से अविभाजित बिहार से प्राप्त है। बिहार से झारखंड राज्य को 4401 उर्दू यूनिट मिली थी। सन् 2014-15 में मात्र 689 यूनिट पर उर्दू शिक्षक बहाल किये गये, जबकि शेष पद अब तक रिक्त रह गये हैं। वर्तमान में रिक्त यूनिट को सहायक आचार्य के पद पर बदला गया है, यह किसी भी हाल में मान्य नहीं है। क्योंकि सहायक आचार्य (ग्रेड पे 2400/-) का वेतनमान सहायक शिक्षक (ग्रेड पे 4600/-) के पद से काफी कम है। उन्होंने कहा कि राज्य के प्रारंभिक विद्यालयों में वर्षों से रिक्ति रहने के बावजूद 2014 के बाद अब तक नियुक्ति करने में शिक्षा विभाग नाकाम रही। जिसका खामियाजा उर्दू प्रशिक्षित अभ्यर्थियों को भुगतना होगा। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि 3712 उर्दू सहायक शिक्षक के पद के वर्तमान अवस्था को बहाल रखा जाय, क्योंकि ये पद पूर्व से सृजित थे।
इस संदर्भ में माननीय मुख्यमंत्री सहित अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री, संसदीय कार्य मंत्री, सचिव, स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग, निदेशक प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा को ज्ञापन सौंप कर उर्दू यूनिट को मरणशील किये जाने पर आपत्ति दर्ज कराया गया है।

Leave a Response