Tuesday, May 28, 2024
Jharkhand News

श्री आलोक कुमार दूबे सर्वसम्मति से झारखंड पासवा के प्रदेश अध्यक्ष निर्वाचित

राज्य कार्यकारिणी और जिला अध्यक्षों के गठन की जिम्मेवारी प्रदेश अध्यक्ष श्री आलोक कुमार दूबे को दी गई
आलोक दूबे राष्ट्रीय अध्यक्ष पासवा सैयद शमायल अहमद से विचारो प्रांत प्रदेश कार्यकारिणी का गठन करेंगे

सीबीएसई तथा आईसीएसई बोर्ड के रिजल्ट आने के पश्चात विशाल छात्र प्रतिभा सम्मान समारोह आयोजित किया जाएगा
जैक बोर्ड के सभी सफल विद्यार्थियों को पासवा ने बधाई दिया है एवं कहां है सभी टॉपर्स को पासवा एक साथ सम्मानित करेगी


आलोक दूबे ने राज्य के निजी विद्यालयों द्वारा भरोसा एवं विश्वास दर्शाने के लिए आभार प्रकट किया है एवं उनकी आशाओं एवं आकांक्षाओं के अनुरुप खरा उतारने का वादा किया है।

आज दिनांक 21 अप्रैल 2024 दिन रविवार को होटल शिवानी इंटरनेशनल हीनू रांची में प्राइवेट स्कूल्स एण्ड चिल्ड्रेन वेलफेयर एसोसिएशन पासवा की प्रदेश कार्य समिति एवं जिला अध्यक्षों की एक अति महत्वपूर्ण बैठक आलोक कुमार दूबे की अध्यक्षता में आयोजित की गई।
उपरोक्त बैठक में झारखंड के 24 जिलों से जिला अध्यक्ष, प्रदेश कार्य समिति के सदस्य, विशिष्ट आमंत्रित सदस्य बड़ी संख्या में उपस्थित हुए और उन्होंने सर्वप्रथम पूर्ण सहमति से ध्वनि मत से एक स्वर में सर्वप्रथम पासवा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष आलोक कुमार दूबे को एक बार फिर झारखंड पासवा का प्रदेश अध्यक्ष निर्वाचित किया।

तथा उन्हें राज्य स्तरीय और जिला स्तरीय कमेटी को एक बार पुनः नए सिरे से गठित करने के लिए अधिकृत किया।
सभी जिला अध्यक्ष और प्रदेश कमेटी के सदस्यों ने एक स्वर में कहा कि आरटीई के कठिन मुद्दे पर कोर्ट का फैसला आने वाला है और झारखण्ड के निजी विद्यालयों के ऊपर जो संकट का तलवार लटक रहा है उसे देखते हुए झारखंड में तत्काल राज्य स्तरीय कमेटी गठित करने की आवश्यकता है और इसी कारण से संपूर्ण झारखंड के निजी विद्यालय अपने-अपने जिला अध्यक्षों के प्रतिनिधित्व में आलोक कुमार दूबे को प्रदेश अध्यक्ष मनोनीत करते हैं तथा उन्हें राज्य स्तरीय तथा जिला स्तरीय कमेटी गठित करने के लिए अधिकृत करते हैं।
उपरोक्त बैठक में सर्वसम्मति से निम्नलिखित तीन मुद्दों पर चर्चा की गई।

  1. संशोधित आरटीई कानून 2019 को निरस्त करने के लिए रणनीति बनाने हेतु यह विचार किया गया कि क्योंकि वर्तमान समय में चुनाव आचार संहिता लागू है अतः चुनाव के पश्चात पासवा इस विषय पर एक रणनीति बनाएऐगी,तब तक प्रत्येक जिले में और राज्य में संगठन का विस्तार किया जाएगा।
  1. झारखंड बोर्ड में मैट्रिक की परीक्षा में संपूर्ण झारखंड के उत्कृष्ट रिजल्ट पर झारखंड के बच्चों को और उनके अभिभावकों को और उन विद्यालयों को जिनसे यह बच्चे उत्कृष्ट रिजल्ट प्राप्त किए हैं उन्हें हार्दिक शुभकामनाएं दी गई।
    1. बैठक में निर्णय लिया गया है कि सीबीएसई एवं आईसीएसई बोर्ड के 10वीं एवं 12वीं के रिजल्ट आ जाएंगे तब हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी पासवा राज्य स्तरीय छात्र प्रतिभा सम्मान समारोह आयोजित करेगी और उसके बाद झारखंड के सभी जिलों में जिला स्तरीय छात्र प्रतिभा सम्मान समारोह आयोजित कर 10वीं एवं 12वीं के टॉपर्स को सम्मानित करेगी।

    1. पासवा ने भीषण गर्मी को देखते हुए शिक्षा विभाग द्वारा विद्यालय संचालन की समय सारणी में परिवर्तन के लिए धन्यवाद दिया है एवं राज्य के सभी निजी विद्यालयों को यह निर्देश दिया है कि प्ले स्कूल चलाने वाले सभी प्रिंसिपल, डायरेक्टर सुबह 11:00 तक ही स्कूल का संचालन करेंगे।
      बैठक का संचालन पासवा के पूर्व प्रदेश महासचिव नीरज सहाय ने किया।
      बैठक में अरविन्द कुमार,नीरज सहाय, फलक फातिमा, सिस्टर एम. मालार, डेंजिल चार्ल्स, सैयद अंसारुल्लाह, संजय प्रसाद,मसूद कच्ची,सुभाष उपाध्याय, मोहम्मद उस्मान,कुमुद रंजन, मनोज झा, विद्या गौतम, आलोक विपिन टोप्पो,विद्या गौतम, अमीन अंसारी, होनी सिंह मुंडा, गुंजा कुमारी, पंकज गिरी,रूपेश कुमार, अजय कुमार, मजीद आलम, हाफिज अंसारी, अरविंद कुमार साहू, नरेश गौड़ा, मिंकु कुमार,ज्ञानेश्वर दयाल, मेघाली सेनगुप्ता,अभय कुमार, मनोज कुमार भट्ट, रंजीत पांडे, दीपमाला पांडे, पप्पू कुमार गौतम, अर्पण भारद्वाज, रशीद इकबाल, प्रवीण प्रकाश सिंह, सैयद अकबर, तोषी कुमारी, सोनम कुमारी,मोहम्मद अजहर, शाकिन प्रिया, विनीत भास्कर, आयुष सिंहा, सुभाजित अधिकारी, सिस्टर इनेट मुख्य रुप से उपस्थित थे.
  1. इसके पूर्व आलोक दूबे के प्रदेश अध्यक्ष निर्वाचित होते ही पासवा प्रदेश पदाधिकारी,जिला अध्यक्षों एवं निजी विद्यालय संचालकों ने दूबे को फूल माला से लाद दिया एवं उनके प्रति अपने निष्ठा प्रदर्शित की तथा ताली बजाकर नये प्रदेश अध्यक्ष का अभिवादन किया।
    पासवा के प्रदेश अध्यक्ष निर्वाचित होने के उपरांत मीडिया कर्मियों से बात करते हुए आलोक दूबे ने राज्य के निजी विद्यालयों के द्वारा भरोसा एवं विश्वास दर्शाने के लिए आभार प्रकट किया है, एवं कहा विद्यालय के आशाओं एवं आकांक्षाओं के अनुरूप खरा उतरने का पूरा प्रयास करूंगा। उन्होंने कहा 2019 आरटीई संशोधन कानून निरस्त करने को लेकर कुछ शिथिलता आ गई थी, लेकिन अब फिर एक बार नए सिरे से इस कानून को निरस्त करने की मांग को लेकर जोरदार तरीके से आवाज उठाई जाएगी, उन्होंने कहा निजी विद्यालय एक तरफ सीमित संसाधनों में बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करते हैं तो वहीं दूसरी तरफ निजी विद्यालय इस देश का सबसे बड़े रोजगार देने वाला संस्थान है,स्कूलों के संचालन के लिए देश में एक कानून बना हुआ है इस कानून का पालन झारखंड प्रदेश में भी होना चाहिए।

Leave a Response