Monday, June 17, 2024
Ranchi Jharkhand

महिंद्रा ने ट्रक ड्राइवरों की बेटियों को सशक्त बनाने की अपनी प्रतिबद्धता को रखा जारी

2014 में इस प्रोजेक्ट की शुरुआत के बाद से, ट्रक ड्राइवरों की 10,000 बेटियों को मिली छात्रवृत्ति, इंडस्ट्री में अपने आप में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि
मेधावी छात्राओं (ट्रक ड्राइवर की बेटियों) को 10,000 रुपए की छात्रवृत्ति।


यह छात्रवृत्ति उन बेटियों के लिए है, जिन्होंने 10वीं कक्षा पढ़ ली है और उत्तीर्ण कर ली है और वित्त वर्ष 2023-24 में आगे की शिक्षा प्राप्त कर रही हैं।
इस कार्यक्रम के तहत देशभर में 75 से अधिक परिवहन केंद्रों को किया गया कवर और अपनाई गई एक बेहतर, पारदर्शी और स्वतंत्र प्रक्रिया।
पुणे, 12 फरवरी, 2024- महिंद्रा समूह की इकाई महिंद्रा ट्रक एंड बस डिवीजन (एमटीबीडी) ने महिंद्रा सारथी अभियान स्कॉलरशिप के माध्यम से ट्रक ड्राइवरों की बेटियों को सशक्त बनाने की अपनी प्रतिबद्धता को कायम रखा है। यह अभियान लड़कियों को उच्च शिक्षा के उनके अधिकार का समर्थन करते हुए ट्रक ड्राइवरों के जीवन को बदलने की दिशा में एक छोटा सा योगदान देने की पहल है। श्री जलज गुप्ता, बिजनेस हेड, कमर्शियल व्हीकल्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा की उपस्थिति में नमक्कल, तमिलनाडु में आयोजित कार्यक्रम के दौरान सीधे खातों में ट्रांसफर के माध्यम से छात्रवृत्ति प्रदान की गई।
यह प्रयास महिंद्रा ट्रक और बस डिवीजन की ट्रक चालक समुदाय के प्रति अपनी प्रतिबद्धता में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है, जिसे 2014 में महिंद्रा सारथी अभियान के साथ शुरू किया गया था। इस कार्यक्रम के तहत देशभर में 75 से अधिक परिवहन केंद्रों को कवर किया गया और एक बेहतर, पारदर्शी और स्वतंत्र प्रक्रिया अपनाई गई।

इंडस्ट्री में अपने आप में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि की चर्चा करते हुए श्री जलज गुप्ता, बिजनेस हेड, कमर्शियल व्हीकल्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा ने कहा, ‘‘हम समुदायों को सशक्त बनाने और स्थायी सामाजिक प्रभाव पैदा करने में सबसे आगे हैं। यह अनूठी पहल देश के दूरदराज के अंदरूनी हिस्सों तक पहुंची, जो सकारात्मक बदलाव को बढ़ावा देने और युवा लड़कियों को उनकी आकांक्षाओं को आगे बढ़ाने के लिए एक प्लेटफॉर्म के साथ सशक्त बनाने की हमारी अटूट प्रतिबद्धता को दर्शाती है। महिंद्रा सारथी अभियान ट्रक चालक समुदाय के प्रति आभार जताने और उनकी बेटियों को शिक्षित करने की दिशा में किए गए हमारे प्रयासों को व्यक्त करने का हमारा तरीका है।’’

Leave a Response