Friday, April 19, 2024
Jharkhand News

बुनकर समाज के हक और अधिकार पर बुनकर संवाद कार्यक्रम 29 मई को ईरबा में : अनवार अंसारी*

 

अब्दुर्रज्जाक अंसारी हैंडलूम कंपलेक्स में बुनकर संवाद कार्यक्रम आयोजित है

रांची। बुनकर समाज के हक और अधिकार  पर कांग्रेस के राज्यसभा  सदस्य , कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष और उर्दू के मशहूर शायर इमरान प्रतापगढ़ी  29 मई को बुनकर समाज के साथ संवाद स्थापित करेंगे। यह संवाद कार्यक्रम रांची के ऐतिहासिक बुनकर समाज के द छोटा नागपुर हैंडलूम वीकर्स को आपरेटिव लि. इरबा में होने जा रहा है जिसके आयोजनकर्ता हैं अनवार अंसारी। अनवार  स्वयं झारखंड द हैंडलूम छोटा नागपुर एंड खादी वीकर्स को ऑपरेटिव बुनकर समाज के हक और अधिकार पर बुनकर संवाद कार्यक्रम कल: अनवार अंसारी 

रांची। बुनकर समाज के हक और अधिकार  पर कांग्रेस के राज्यसभा  सदस्य , कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष और उर्दू के मशहूर शायर इमरान प्रतापगढ़ी  29 मई को बुनकर समाज के साथ संवाद स्थापित करेंगे। यह संवाद कार्यक्रम रांची के ऐतिहासिक बुनकर समाज के द छोटा नागपुर हैंडलूम वीकर्स को आपरेटिव लि. इरबा में होने जा रहा है जिसके आयोजनकर्ता हैं अनवार अंसारी। अनवार  स्वयं झारखंड द हैंडलूम छोटा नागपुर एंड खादी वीकर्स को ऑपरेटिव यूनियन लिमिटेड ईरबा  रांची के अध्यक्ष सह झारखंड कांग्रेस प्रदेश के अल्पसंख्यक विभाग के उपाध्यक्ष हैं।अनवार अहमद अंसारी ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि ऐसा पहली बार है ,जब बुनकर समाज के आर्थिक, सामाजिक और उनके हालात पर राज्यसभा सांसद इमरान प्रतापगढ़ी ने सांसद पर आवाज उठाया हो, जबकि पहले भी कई मुसलमान सांसद,  राज्यसभा  सदस्य बने, लेकिन बुनकर समाज को लेकर किसी ने गंभीरता नहीं दिखाई।  इसलिए मेरा दायित्व बनता है, कि मैं इमरान प्रतापगढ़ी के साथ रहें, उनके साथ चले, क्योंकि बुनकर समाज का भविष्य जो है, कांग्रेस के युवा कद्दावर नेता इमरान प्रतापगढ़ी में दिख रहा है। इसी उद्देश्य के साथ बुनकर संवाद कार्यक्रम का आयोजन कराया जा रहा है। इस कार्यक्रम में करीब 1000 बुनकर समाज के जो प्रतिनिधिगण हैं वे शामिल होंगे।  यह कार्यक्रम 29 मई को सुबह 10:00 बजे से ईरबा के ऐतिहासिक अब्दुर्रज्जाक अंसारी हैंडलूम लिमिटेड के  कैंपस है वहां पर भव्य तरीके से होगा। इसमें बुनकर समाज से जुड़े हुए प्रतिनिधि के अलावे बुनकर परिवार की महिलाएं हैं वह भी हिस्सा लेंगी, और राज्य के कई विधायक, मंत्री उपस्थित रहेंगे।

वर्तमान सरकार में बुनकर के हालात खराब: 

अनवार ने बताया कि बुनकर समाज के हालात आज से  नहीं है जब से केंद्र में मोदी की सरकार बनी है, तब से खराब है,  पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से लेकर राजीव गांधी, मनमोहन सिंह तक की  कांग्रेस की सरकार थी,  तो बुनकर समाज के हैंडलूम में   40 प्रतिशत सब्सिडी दी जाती थी, जो योजनाएं चल रही थी,  अनुदान मिल रहा था ,वह सब मोदी सरकार बनने के बाद खत्म होते चली  गई।  सबसे दुख की बात यह है की  खादी में जीएसटी को छूट दी गई है, लेकिन हैंडलूम में 18प्रतिशत जीएसटी लगा दिया गया है,  जबकि दोनों धागे से बनाते हैं, दोनों के मजदूर अपने हाथों से सिलते हैं, मेहनत करते हैं, फिर भी यह भेदभाव क्यों? यह  सवाल है जिसका जवाब वर्तमान के किसी भी सरकार पास नहीं है। हमारी मांगे हैं कि उनका समाज के का जो योजनाएं पूर्व में चल रही थी, उसे लागू किया जाए , जो अनुदान दिया जा रहा था,  उसे फिर से शुरू किया जाए,  झारखंड में अल्पसंख्यकों का निगम बोर्ड है,  रिक्त पड़े हैं उसमें उसे जगह दी जाए।  इसके अलावा उर्दू शिक्षकों की जो बाहली नहीं हो रही है, इसके लिए उचित कदम उठायी जाए,  हमारे हैंडलूम के जो चादर ,साड़ी ,गमछा आदि बन रहा है उसे सरकार खरीदे और अपने संबंधित विभागों में इसे उपलब्ध कराने की व्यवस्था कराये, इससे सरकार के राजस्व में बचत होगी और हैंडलूम को बढ़ावा मिलेगा, बुनकर समाज विकसित होगा ,आर्थिक रूप से संपन्न होगा।

 मुसलमानों को एकजुट होने की जरूरत है :

मुसलमान एकजुट हो इसके लिए एक संगठन बनाया जाएगा । जिसमें मुसलमान शामिल होंगे और एक साथ हम लोग अपनी मांगों को सरकार तक रखेंगे,  ताकि सरकार गंभीरता से हमारी बातों को सुनेगी और मांगों को  पूरा करेगी।

क्या कहा मिन्नत रहमानी ने:

 वहीं बिहार कांग्रेस के अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष मिन्नत रहमानी ने कहा कि जिस तरह से बिहार में बुनकरों के हक और अधिकार के लिए काम किया जा रहा है।  जिस तरह से अल्पसंख्यक मुसलमानों के लिए काम हो रहा है , वो झारखंड में भी हो इसके लिए हम लोग संयुक्त रूप से प्रयास करेंगे । कोशिश करेंगे कि यहां भी जो वर्तमान की हेमंत सोरेन की सरकार है और यह गठबंधन की सरकार हैं, तो हम लोग चाहेंगे कि आने वाले समय में किसी तरह की परेशानी ना हो।  हम लोग सब मिल बैठकर इसका समाधान करेंगे , ताकि  मजबूती के साथ राज्य और केंद्र में अपनी जगह बना सकें इसके लिए सभी को साथ लेकर चलना होगा।क और उनके हालात पर राज्यसभा सांसद इमरान प्रतापगढ़ी ने सांसद पर आवाज उठाया हो, जबकि पहले भी कई मुसलमान सांसद,  राज्यसभा  सदस्य बने, लेकिन बुनकर समाज को लेकर किसी ने गंभीरता नहीं दिखाई।  इसलिए मेरा दायित्व बनता है, कि मैं इमरान प्रतापगढ़ी के साथ रहें, उनके साथ चले, क्योंकि बुनकर समाज का भविष्य जो है, कांग्रेस के युवा कद्दावर नेता इमरान प्रतापगढ़ी में दिख रहा है। इसी उद्देश्य के साथ बुनकर संवाद कार्यक्रम का आयोजन कराया जा रहा है। इस कार्यक्रम में करीब 1000 बुनकर समाज के जो प्रतिनिधिगण हैं वे शामिल होंगे।  यह कार्यक्रम 29 मई को सुबह 10:00 बजे से ईरबा के ऐतिहासिक अब्दुर्रज्जाक अंसारी हैंडलूम लिमिटेड के  कैंपस है वहां पर भव्य तरीके से होगा। इसमें बुनकर समाज से जुड़े हुए प्रतिनिधि के अलावे बुनकर परिवार की महिलाएं हैं वह भी हिस्सा लेंगी, और राज्य के कई विधायक, मंत्री उपस्थित रहेंगे।

वर्तमान सरकार में बुनकर के हालात खराब: 

अनवार ने बताया कि बुनकर समाज के हालात आज से  नहीं है जब से केंद्र में मोदी की सरकार बनी है, तब से खराब है,  पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से लेकर राजीव गांधी, मनमोहन सिंह तक की  कांग्रेस की सरकार थी,  तो बुनकर समाज के हैंडलूम में   40 प्रतिशत सब्सिडी दी जाती थी, जो योजनाएं चल रही थी,  अनुदान मिल रहा था ,वह सब मोदी सरकार बनने के बाद खत्म होते चली  गई।  सबसे दुख की बात यह है की  खादी में जीएसटी को छूट दी गई है, लेकिन हैंडलूम में 18प्रतिशत जीएसटी लगा दिया गया है,  जबकि दोनों धागे से बनाते हैं, दोनों के मजदूर अपने हाथों से सिलते हैं, मेहनत करते हैं, फिर भी यह भेदभाव क्यों? यह  सवाल है जिसका जवाब वर्तमान के किसी भी सरकार पास नहीं है। हमारी मांगे हैं कि उनका समाज के का जो योजनाएं पूर्व में चल रही थी, उसे लागू किया जाए , जो अनुदान दिया जा रहा था,  उसे फिर से शुरू किया जाए,  झारखंड में अल्पसंख्यकों का निगम बोर्ड है,  रिक्त पड़े हैं उसमें उसे जगह दी जाए।  इसके अलावा उर्दू शिक्षकों की जो बाहली नहीं हो रही है, इसके लिए उचित कदम उठायी जाए,  हमारे हैंडलूम के जो चादर ,साड़ी ,गमछा आदि बन रहा है उसे सरकार खरीदे और अपने संबंधित विभागों में इसे उपलब्ध कराने की व्यवस्था कराये, इससे सरकार के राजस्व में बचत होगी और हैंडलूम को बढ़ावा मिलेगा, बुनकर समाज विकसित होगा ,आर्थिक रूप से संपन्न होगा। आज मौके पर मो वारिश कुरैशी, सैयद हसनैन जैदी, नसीम अंसारी, मो आफताब, मो जावेद आदि थे।

Leave a Response