Sunday, July 21, 2024
Ranchi Jharkhand

जा रहे थे मतदान करने, रास्ते में ही पत्नी का हो गया निधन, शव को पहुंचाया घर, बूथ पर जाकर किया मतदान

लोकतंत्र के महापर्व के प्रति शफीक अहमद ने पेश की समर्पण की मिसाल
कांग्रेस प्रत्याशी यशस्विनी सहाय मिलीं मृतक के परिजनों से, जताया शोक

विशेष संवाददाता

रांची। लोकसभा चुनाव के दौरान राजधानी में लोकतंत्र के महापर्व के प्रति समर्पण की मिसाल देखने को मिली।
शहर के पुनदाग (दीपा टोली) स्थित फातिमा नगर निवासी शफीक अहमद और शाहिना परवीन (पति-पत्नी) फातिमा नगर स्थित ज्ञान सिंधु विद्या मंदिर मतदान केंद्र पर बूथ संख्या 208 पर मतदान करने के लिए जा रहे थे अकस्मात रास्ते में ही शफीक अहमद की पत्नी शाहिना परवीन गिर गई और तत्काल मौके पर ही उनका निधन हो गया। अचानक हुए इस हादसे से शफीक अहमद घबरा गए। पर उन्होंने हौसला नहीं खोया। अपनी पत्नी के शव को पहले घर पहुंचाया और वहां अपने परिजनों को पूरा वाकया बताकर पहले मतदान करने की ठानी और मतदान केंद्र पर पहुंचकर अपना वोट डाला। मतदान के प्रति इस तरह के समर्पण की मिसाल पेश करने वाले शफीक अहमद की चहुंओर सराहना की जा रही है।
यह लोकतंत्र के महापर्व में मतदाताओं के बढ़-चढ़कर सहभागिता निभाने का एक उदाहरण है। इससे लोकतंत्र की महत्ता का पता चलता है।

कांग्रेस प्रत्याशी यशस्विनी सहाय तत्काल पहुंची पीड़ित के घर

अकस्मात घटी इस घटना की जानकारी रांची संसदीय सीट से कांग्रेस प्रत्याशी यशस्विनी सहाय को मिली। सुश्री सहाय तत्काल फातिमा नगर पहुंचकर शफीक अहमद और उनके परिजनों से मिलीं एवं शोक जताया।
मृतक के परिजनों को सांत्वना दिया। सुश्री सहाय ने मौके पर कहा कि यह लोकतंत्र के महापर्व के प्रति समर्पण की अद्भुत मिसाल है। श्री अहमद ने लोकतंत्र में चुनाव के महत्व को अहमियत देते हुए पहले मतदान करने का निर्णय लिया, यह अत्यंत सराहनीय है।

Leave a Response